Gaganyaan :- Human Space Mission by ISRO

Gaganyaan is a mission by the Indian Space Research Organisation (ISRO) to send a three-member crew to space for a period of five to seven days by 2022.

The space mission was first announced by Prime Minister Narendra Modi in 2018 in his Independence Day address to the nation. Ahead of the manned mission, ISRO plans to send two unmanned missions to space as part of the Gaganyaan mission. The first unmanned mission was scheduled to be sent in December 2020 and the second mission was scheduled for June 2021. However, the first unmanned mission has been delayed because of the disruption in ISRO’s work and operations on account of the coronavirus pandemic. The Gaganyaan spacecraft will be placed in a low earth orbit (LEO) of 300-400 kilometres. The total programme cost is expected to be under Rs.10000 crore.

Gaganyaan is significant because it is the first indigenous mission that will send Indian astronauts to space. If it succeeds, India will be the fourth country to have sent a human to space, the other three being the US, Russia and China. ISRO is developing the spacecraft and Russia is helping in the training of the astronauts.

Objectives of the Mission:

Improving international collaboration

Enhancement of science and technology levels in the country

A national project involving several institutes, academia and industry

Improvement of industrial growth

Inspiring youth

Development of technology for social benefit

Relevance of a Manned Space Mission for India:

Boost to industries: The Indian industry will find large opportunities through participation in the highly demanding Space missions. Gaganyaan Mission is expected will source nearly 60% of its equipment from the Indian private sector.

Employment: According to the ISRO chief, the Gaganyaan mission would create 15,000 new employment opportunities, 13,000 of them in private industry and the space organisation would need an additional manpower of 900.

Technological development: Human Space flights are frontier field in the science and technology. The challenges the Human Space Flights provide to India, and the benefits accruing from taking up those missions will be very high and will lead to further thrust for technological developments in India.

Spurs research and development: It will boost good research and technology development. With a large number of researchers with proper equipment involved, HSF will thrust significant research in areas such as materials processing, astro-biology, resources mining, planetary chemistry, planetary orbital calculus and many other areas

Motivation: Human space flight will provide that inspiration to the youth and also the national public mainstream. It would inspire young generation into notable achievements and enable them to play their legitimate role in challenging future activities

Prestige: India will be the fourth country to launch human space mission. The Gaganyaan will not only bring about prestige to the nation but also establish India’s role as a key player in the space industry.

Conclusion:-The success of Gaganyaan can lead to many more experiments with spaceflight missions. It will also give a filip to India’s dream of setting up its own space station. 

Sponsored Post Learn from the experts: Create a successful blog with our brand new courseThe WordPress.com Blog

WordPress.com is excited to announce our newest offering: a course just for beginning bloggers where you’ll learn everything you need to know about blogging from the most trusted experts in the industry. We have helped millions of blogs get up and running, we know what works, and we want you to to know everything we know. This course provides all the fundamental skills and inspiration you need to get your blog started, an interactive community forum, and content updated annually.

Farm bill 2020

India is an agricultural country more than 70% of India’s population is directly or indirectly involved in agriculture-related work. Recently central government has passed three bills on agricultural reforms. These bills are:-

  1. The farmers’ produce Trade and commerce (promotion and facilitation) Bill 2020
  2. The farmers (empowerment and protection) Agreement of price Assurance and farm Service bill, 2020
  3. The essential commodities (Amendment) bill 2020

These bills entail following provisions:-

The farmers’ produce Trade and commerce (promotion and facilitation) Bill 2020

  • opens up agricultural sale and marketing outside the notified agricultural produce Market committee (APMC) or mandis for farmers
  • Remove barriers to interstate trade which means farmers can sell their products openly to anyone and anywhere. There will be no Agricultural Produce Market Committee (APMC) market fee or cess on transactions in such trade areas. APMCs will continue their functioning. Now APMCs have to compete with these alternate platforms and now farmers have a choice for selling their products.
  • Provides a framework electronic trading of agricultural produce. The Farm Bill 2020 does not annihilate current MSP based procurement of food grains. 

2 The farmers (empowerment and protection) Agreement of price Assurance and farm Service bill, 2020

  • Farming agreement: The Ordinance provides for a farming agreement between a farmer and a buyer prior to the production or rearing of any farm produce.
  • The minimum period of an agreement will be one crop season, or one production cycle of livestock.
  • The maximum period is five years, unless the production cycle is more than five years.
  • Pricing of farming produce: The price of farming produce should be mentioned in the agreement.  For prices subjected to variation, a guaranteed price for the produce and a clear reference for any additional amount above the guaranteed price must be specified in the agreement.
  • Further, the process of price determination must be mentioned in the agreement.
  • Dispute Settlement: A farming agreement must provide for a conciliation board as well as a conciliation process for settlement of disputes.  The Board should have a fair and balanced representation of parties to the agreement.
  • At first, all disputes must be referred to the board for resolution.  If the dispute remains unresolved by the Board after thirty days, parties may approach the Sub-divisional Magistrate for resolution.
  • Parties will have a right to appeal to an Appellate Authority (presided by collector or additional collector) against decisions of the Magistrate.  Both the Magistrate and Appellate Authority will be required to dispose of a dispute within thirty days from the receipt of application.
  • The Magistrate or the Appellate Authority may impose certain penalties on the party contravening the agreement.  However, no action can be taken against the agricultural land of farmer for recovery of any dues.

The essential commodities (Amendment) bill 2020

  • This bill is an amendment to the Essential Commodities Act, 1955 which empowers the central government to designate certain commodities (such as food items, fertilizers, and petroleum products) as essential commodities. 
  • many agro foods like pulses, onion, potatoes, oil seeds, cereals, and edible oils are removed from the essential commodities list by this The essential commodities (Amendment) bill 2020 Except under unusual circumstances, this newly passed agriculture bill does away with the imposition of stock limit.
  • Business and traders get rid of harassment.
  • With the improvement of storage facilities, the wastage rate is likely to get reduced.
  • This latest agriculture policy aims for a stable price which will eventually help in raising farm incomes.

 Benefits of Agriculture Bill:

The government has introduced these Farm Bills to transform the agriculture sector. This step has been taken by the govt to spice up the agriculture sector and double the farmer’s income by 2022. It is thought that freeing of agriculture sector will eventually help in better pricing. When farmers will sell their products to corporates and exporters directly it will induce the corporate sector to invest in the agri-ecosystem. This will also give farmers better access to modern technology and farmers will be benefited from it.

Why Farmers are protesting against Agriculture bill 2020 ?

END of MSP?

Farmers are apprehensive of getting MSP for their produce as New Farm Bill 2020 opens the way for farmers to sell their produce in open market and fix price by themselves on mutual understanding of corporate and farmer. Farmers also fears that large retailers and corporate could dominate agriculture sector with money power. Farmers doubt that APMCs may become unavailable and have to shut down in future if trade moves substantially to other alternate platforms. Farmers fear that mandis will become redundant like BSNL and MTNL in future days.

No Mechanism for price fixation

The Price Assurance Bill doesn’t prescribe any mechanism for price fixation. Thus there is a apprehension in farmers that free hand given to private corporate houses could lead to farmer’s exploitation. The Essential Commodities (Amendment) Ordinance removes pulses, oil seeds, edible oils, onion and potatoes from the essential commodities list. Thus the amendment deregulates the production, movement, storage and distribution of these food commodities.

Essay on White Revolution (Operation flood) in Hindi

सफेद क्रांति पर निबंध/ Essay of white revolution( operation flood)

दूध के बारे में जागरूकता बढ़ाने और वैश्विक भोजन के रूप में इसके महत्व को बढ़ाने के उद्देश्य से 1 जून को दुनिया भर में विश्व दूध दिवस- world milk day  मनाया जाता है।  क्या आप जानते है कि आज 150 मिलियन टन उत्पादन के साथ भारत दुनिया में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। जबकि आजादी के समय भारत एक दूध आयात करने वाला देश था। फिर दूध की कमी वाले देश से हम दुनिया के सबसे बड़े दूध उत्पादक देश कैसे बन गये? यह सम्भव हुआ 70 के दशक में आरम्भ हुई – सफेद क्रांति के कारण, जिसे operation flood भी कहा जाता है।

सफेद क्रांति क्या है’?

सफेद क्रांति जिसे Operation Flood के नाम से भी जाना जाता है, दुनिया के सबस बडे‌ ग्रामीण विकास के कार्यक्र्मों मे से एक है। ऑपरेशन फ्लड भारत के राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) द्वारा शुरू किया गया एक ग्रामीण विकास कार्यक्रम था। यह कार्यक्रम 1 970 में लॉन्च किया गया था, जिसका मुख्य लक्ष्य डेयरी उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाना था। यह दुनिया का सबसे बड़ा डेयरी विकास कार्यक्रम था। लगभग बीस साल (1975-1995)  साल तक चले इस सतत कार्यक्रम के  परिणामस्वरूप  भारत दूध की कमी वाले देश से दुनिया के सबसे बड़े दूध उत्पादक देशों में से एक बन गया। और इसलिए इसे भारत की white revolution भी कहा जाता है। operation  flood  के मुख्य लक्ष्य थे:

  1. दूध उत्पादन  की वृद्धि (“दूध की बाढ़”)
  2.  ग्रामीण आय को बढाना
  3. उपभोक्ताओं के लिए उचित कीमतें

“ऑपरेशन फ्लड को ग्रामीण विकास विजन की पुष्टि करने वाले बीस साल के प्रयोग के रूप में देखा जा सकता है”

–विश्व बैंक रिपोर्ट 1997 सी।

सफेद क्रांति के जनक : श्री वर्गीस कुरियन (26 नवंबर 1 9 21 – 9 सितंबर 2012), को भारत में ‘व्हाइट क्रांति का पिता’ कहा जाता है।  ग़ुजरात के आणंद मेंं स्थानीय किसानों को जब दूध का उचित मुल्य नही मिल पा रहा था, तब  सरदार बल्लभ भाई पटेल के पहल पर गुजरात के कैरा और आणद के किसानों के समूह से 1949 में अमूल नामक को- ओपरेटिव की स्थापना की गयी।  आज यही अमूल आज न सिर्फ भारत में बल्कि दुनिया में एक जाना पह्चाना ब्राड बन चुका है। वर्गीस कुरियन ने  उन्होंने अमूल के अध्यक्ष और संस्थापक के रूप में विपणन, खरीद और दूध और दूध उत्पादों की प्रसंस्करण  प्रक्रिया  को  नियंत्रित किया। जिसके  परिणामस्वरूप उपभोक्ताओं द्वारा भुगतान की गई कीमत का 70-80% डेयरी किसानों को नकद के रूप में जाने लगा। जिससे किसानों की आर्थिक स्थिति में बहुत सुधार आया।

कुरियन ने अपने दोस्त एच एम दलाया के सहयोग से भैंस के दूध से दूध पाउडर और संघनित दूध( skimmed milk)  बनाने की प्रक्रिया का आविष्कार किया। कई कंपनियों को उनके नेतृत्व में शुरू किया गया था। पूर्व प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने अमूल के प्रबंधन, संसाधन और आधारभूत संरचना व्यवस्था के आधार पर उन्हें राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया। उनके नेतृत्व मे ही ऑपरेशन फ्लड कार्यक्रम की पहल की जो कि  अमूल के प्रयोगात्मक पैटर्न पर आधारित था।ऑपरेशन फ्लड का मूल आधार गांवों के दूध उत्पादक किसानों की सहकारी समितिया रही है, जिनके माध्यम से दूध खरीदा, बेचा जाता और marketing की सेवाये प्रदान की जाती है ये समितिया ( co-operatives) किसानों को आधुनिक प्रबंधन और प्रौद्योगिकी के बारे में सेवाये उपलब्ध  कराती है।

भारत में व्हाइट क्रांति के चरण क्या थे?

कार्यक्रम कार्यान्वयन

ऑपरेशन फ्लड तीन चरणों में लागू किया गया था।

चरण I : चरण I (1 970-19 80) को विश्व खाद्य कार्यक्रम के माध्यम से वित्त पोषित किया गया था| स्किम्ड दूध पाउडर और मक्खन तेल की बिक्री द्वारा । अपने पहले चरण के दौरान, ऑपरेशन फ्लड ने भारत के चार प्रमुख महानगरीय शहरों: दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में उपभोक्ताओं के साथ भारत के प्रमुख मिल्कशेडों में से 18 को जोड़ा।

चरण  II :–   1981 से 1985 तक दूसरा चरण चला। इस अवधि में मिल्क्शेदों की संख्या 18 से बढ्कर 136 हो गयी। 290 शहरी बाज़ारों में दूध के आउट्लेट का विस्तार हो चुका था। 1985 के अंत तक  43000 ग्रामीण को आपरेटिव की एक आत्म निर्भर नेटवर्क तैयार हो गया जिससे   चालीस लाख से अधिक दूध उत्पाद्क किसानो जुडे हुए थे।

चरण III :-    (1 985-1996) ने डेयरी सहकारी समितियों को दूध की मात्रा में वृद्धि और बाजार की खरीद के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे को और मजबूत करने में सक्षम बनाया। सहकारी सदस्य किसानो को पशुओं की  प्राथमिक चिकित्सा, स्वास्थ्य देखभाल, पौश्टिक चारा, आदि  सेवाए प्रदान दी गयी तथा उन्हें इसके बारे में शिक्षित भी किया गया।ऑपरेशन फ्लड फेज III ने भारत के डेयरी सहकारी आंदोलन को समेकित किया, 1 988-89 में मिल्कशेड 173 तक पहुंच गए और महिला सदस्यों और महिलाओं की डेयरी सहकारी समितियों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई।चरण III ने पशु स्वास्थ्य और पशु पोषण में अनुसंधान और विकास पर जोर दिया। नये अनुसंधान जैसे Theileriosis की वैक्सीन, bypass protein feed , सभी ने दुग्ध पशुओं की उत्पादकता बढाने में योगदान दिया।

इस समग्र और बहुआयामी रणनीति का ही परिणाम था कि न केवल बाजार की आपूर्ति अप्रभावित रही  बल्कि डेयरी किसानों को सही कीमतें मिलीं,  मुख्य सिद्धांत जिस पर ऑपरेशन – फ्लड ने  काम किया था, यह था कि संपूर्ण मूल्य श्रृंखला – खरीद से विपणन तक – छोटे, सीमांत और भूमिहीन किसानों को  केंद्र मे रखकर काम किया जाना  चाहिए।

इस प्रकार सफेद क्राति के कारण भारत न केवल दूध उत्पादन में दुनिया में पहले स्थान पर आ गया, अपितु यह एक ग्रामीण विकास का सफल कार्यक्रम सिद्ध हुआ। इसके माध्यम से किसानों को रोजगार बढ्ने के साथ -साथ उनकी आय भी बढी। उनके जीवन स्तर में सुधार हुआ।

 

 

 

Health is wealth/Hindi Story

मोटा राजा ।  स्वास्थ्य ही धन है : हिंदी कहानी

एक बार की बात है एक बहुत दयालु राजा था परंतु उसकी प्रजा उससे खुश नहीं थी क्योंकि राजा बहुत आलसी हो गया था । वह  सोने और खाने के अलावा कुछ करता ही नहीं था।

a-fat-king-cartoon-ugly_5914eb2bf1cd7_img

राजा  कई दिन,कई हफ्ते, महीने तक बिस्तरों पर ही पड़ा रहता था। सिर्फ खाता था और सोता था।  राजा एक आलू की तरह हो गया। वह  का वजन जब बहुत ज्यादा बढ गया तो  उसके मंत्रियों ने उसके बारे में चिंता करनी शुरू कर दी। एक  दिन राजा को महसूस हुआ कि वह अपने शरीर को हिला भी नही पा रहा था वह बहुत मोटा हो चुका था और उसके दुश्मन राजा उसका मजाक उड़ाया करते थे ।

राजा ने राज्य के विभिन्न हिस्सों से बहुत ही निपुण वैध को बुलाया और कहा कि जो भी उसे ठीक कर देगा वह उस वैध को उचित इनाम देगा।  दुर्भाग्य से कोई भी राजा को ठीक नही कर सका। राजा ने अपना  सुडौल शरीर  वापस पाने के लिए बहुत सा धन खर्च किया । परंतु सब बेकार , कोई फायदा नही हुआ ।

एक दिन की बात है एक बुद्धिमान महात्मा ने उसके राज्य में भ्रमण किया। जब महात्मा ने  राजा की खराब  स्वास्थ्य के बारे में सुना तो तुरंत  मंत्री को सूचित किया कि वह राजा को जल्दी ही ठीक कर सकता है।  ये बात सुनकर  मंत्री बहुत खुश हुआ और उसने राजा को तुरंत इसकी सूचना दी। मत्री ने कहा,” महाराज, यदि आप अपनी इस समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप उस महात्मा से जरूर मिल लीजिए।”

वह  महात्मा महल से दूर के स्थान पर एक कुटिया में रहता था। क्योंकि राजा अपना शरीर हिला भी हीं सकता था वह ज्यादा दूर तक चल भी नहीं सकता था, इसलिये  उसने मंत्री को कहा कि वह उस बुद्धिमान महात्मा  को महल में ही ले आए।  परंतु महात्मा ने आने  से मना कर दिया और  कहा कि राजा अगर उपचार करवाना चाह्ते है तो उन्हें स्वयं  कुटिया तक  आना पड़ेगा ।

राजा ने सोचा अब जाना तो पडेगा। बहुत  मुश्किल से राजा महल से निकलकर उसके निवास स्थान तक पहुच ही गया।  महात्मा ने राजा का  धन्यवाद व्यक्त किया और कहा कि आप बहुत अच्छे राजा हैं और आप जल्दी ठीक हो जाएंगे। उसने राजा को उपचार के लिए दूसरे दिन भी आने के लिए कहा। परंतु एक शर्त रखी, ” महाराज ,आपका  उपचार तभी ठीक से  हो सकता है जब आप स्वयम अपने पैरों पर चलकर मेरी कुटिया पर  आयेंगे। ”

राजा का चलने में बहुत परेशानी होती थी फिर भी वह अपने कुछ मंत्रियों और  सेवकों की मदद से दूसरे दिन भी कुटिया तक पहुंच गया।  दुर्भाग्य से अगले दिन वह महात्मा कुटिया पर  उपलब्ध ही नहीं था। उसके शिष्य ने  बताया कि वह कहीं बाहर गए हैं और राजा से निवेदन किया कि अगले दिन भी वे चलकर उपचार के लिये आ जायें।

यह सिलसिला  दो हफ्तों तक चलता रहा। राजा महात्मा से कभी मिल ही नही पाता था। वह कुटिया तक जाता और फिर महल तक चलकर वापिस आ जाता। धीरे-धीरे, राजा को एहसास हुआ कि वह बहुत हल्का महसूस कर रहा है, वजन भी कुछ कम हो गया हैै। और वह पहले से अधिक सक्रिय महसूस कर रहा था। अब उसे यह बात समझ में आ गयी कि क्यों महात्मा ने ने उसे रोज चलकर कुटिया तक पहुंचने के लिए कहा था। अब उसने आलस त्याग दिया। रोज कसरत करना शुरू कर दिया।

इस तरह बहुत जल्द, राजा ने अपना  खोया हुआ स्वस्थ शरीर वापस कर लिया, और अब लोग भी अपने राजा से  बहुत खुश थे।

स्वास्थ्य ही धन है!

 

 

 

 

 

गंगा दशहरा का महत्व और कहानी

ग़ंगा दशहरा का महत्व और कहानी

Image result for ganga dussehra story pic

चित्र साभार : गूगल

गंगा नदी को पवित्र और दिव्य नदी माना जाता है, हिंदू धर्म में इसे सिर्फ एक नदी ही नहीं, अपितु इस नदी को एक मॉ का स्थान दिया गया है। पुराणों और वेदों मेंं गंगा नदी को मोक्षदायिनी कहा गया है। गंगा का भारतीयों के जीवन में पौराणिक, ऐतिहासिक,धार्मिक और आर्थिक रूप से बहुत महत्व है। गंगा का पानी बहुत पवित्र माना जाता है और सभी हिंदू अनुष्ठानों के लिए हर किसी द्वारा इसका उपयोग किया जाता है।

पौराणिक हिंदू मान्यताओं के अनुसार यह माना जाता है कि मा गंगा जेठ मास के शुक्ल पक्ष की दसवी तिथि को स्वर्ग से धरती पर अवतरित हुई थी। अंग्रेजी कैलंडर के अनुसार इस साल यह शुभ तिथि आज के दिन 24 मई 2018 को पड़ रही है। इस दिन को गंगा दशहरा के रूप में मनाया जाता है।

related post :   Phooldei festival of Uttarakhand फूलदेई: घोघा का त्योहार 
                             अक्षय तृतीया का महत्व और कहानी

क्या है गंगा दशहरा पर्व का महत्व और क्यों मनाया जाता है यह पर्व?

माना जाता है कि इस दिन स्वर्ग से गंगा का धरती पर अवतरण हुआ था।पुराणों में वर्णित है कि इसी दिन सुर्यवंशी राजा भगीरथ की बहुत कठिन तपस्या के बाद मॉ गंगा को नदी स्वरूप मे स्वर्ग से पृथ्वी लोक पर लाने का मानवकल्याण रुपी कार्य पूर्ण हुआ था।तभी से हर साल गंगादशहरा के पावन अवसर पर गंगा पूजा के साथ कई संस्कार,रीतियों और अनुष्ठानों का आयोजन किया जाता है। माना जाता है कि गंगा दशहरा के अवसर पर्व पर माँ गंगा में डुबकी लगाने से सभी पाप धुल जाते हैं और मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। वैसे तो गंगा स्नान का अपना अलग ही महत्व है, लेकिन इस दिन स्नान करने से मनुष्य सभी दुःखों से मुक्ति पा जाता है। गंगा दशहरा के दिन दान पुण्य का विशेष महत्व है।

गंगा के अवतरण की पौराणिक कहानी

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, प्राचीन समय में इक्ष्वाकु वंश में सगर नाम के राजा हुए। राजा सगर की दो रानिया थी- केशानी और सुमति। दोनों मे से किसी भी रानी से राजा की कोई संतान न थी। संतान प्राप्ति के लिये राजा सगर ने कई यज्ञ, अनुष्टठान किये। जिसके फलस्वरूप रानी केशानी से एक पुत्र प्राप्त हुआ-असमजस और दूसरी रानी सुमति ने साठ हज़ार पुत्रों को जन्म दिया। कुछ साल बाद राजा सगर ने अपने राज्य विस्तार के लिये अश्वमेध यज्ञ का आयोजन किया। प्रचलित यज्ञ विधान के अनुसार अश्व (घोडा) को पडोसी राज्यो की सीमाओंं की और खुला छोड दिया जाता था । यदि यज्ञ के अश्व को किसी अन्य राजा की सेना ने पकड लिया तो उसे युद्ध करना पड्ता था। और युद्ध में जो विजेता होता था उसका पराजित राज्य पर अधिकार हो जाता था। इस प्र्कार राजा सगर ने सभी राजाओं को बताने के लिये अश्व को मुक्त विचरण के लिये छोड दिया। यज्ञ की रक्षा का भार उनके साठ हज़ार पुत्रों ने संभाला। इंद्र देव नही चाह्ते थे कि यह यज्ञ सफल हो इस्लिये उन्होने सगर के यज्ञीय अश्व का अपहरण कर लिया। यह यज्ञ के लिए विघ्न था. परिणामतः सगर के साठ हजार पुत्रों ने अश्व को खोजना शुरू कर दिया। सारा भूमंडल खोज लिया पर अश्व नहीं मिला। फिर अश्व को पाताल लोक में खोजने के लिए पृथ्वी को खोदा गया। खुदाई पर उन्होंने देखा कि साक्षात्‌ ‘महर्षि कपिल’ वहा तपस्या कर रहे हैं. उन्हीं के पास महाराज सगर का अश्व घास चर रहा है. उन्हें देखकर वे ‘चोर-चोर’ चिल्लाने लगे और उनका ध्यान भंग कर दिया।

महर्षि कपिल की समाधि टूट गई. ज्यों ही महर्षि ने अपने आग्नेय नेत्र खोले, त्यों ही सभी 60,000 पुत्र महर्षि कपिल के श्राप से भस्म हो गये। सगर के वंसज श्रापित हुए अपनेे पुर्वजों की मुक्त्ति का बहुत प्रयास किया। परन्तु किसी से यह सम्भव नही हुआ। आगे जाकर राजा सगर के वंश मेंं राजा भगीरथ उत्पन्न हिए ।

भगीरथ ने मृत पूर्वजो का श्राद करके उनका उद्धार कंरने का निश्चय किया। परंतु इस कार्य के लिये प्रयाप्त जल उपलब्ध नही था क्युकि श्राप के प्रभाव से जल के श्रोत भी सुख चुके थे। राजा भगीरथ ने अपने मृत पूर्वजों के उद्धार के लिये तथा प्रजा को अकाल से मुक्ति दिलाने के सैकडो वर्षो तक कठोर तप किया। भगीरथ के तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मा ने उनसे वर मांगने को कहा तो भगीरथ ने ‘गंगा’ के धरती पर अवतरण की इच्छा प्रकट की।

इस पर ब्रह्मा ने कहा- ‘राजन! तुम गंगा का पृथ्वी पर अवतरण तो चाहते हो? परंतु क्या तुमने पृथ्वी से पूछा है कि वह गंगा के भार तथा वेग को संभाल पाएगी? मेरा विचार है कि गंगा के वेग को संभालने की शक्ति केवल भगवान शंकर में है. इसलिए उचित यह होगा कि गंगा का भार एवं वेग संभालने के लिए भगवान शिव का अनुग्रह प्राप्त कर लिया जाए.’ महाराज भगीरथ ने वैसे ही किया

उनकी कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्माजी ने गंगा की धारा को अपने कमंडल से छोड़ा. तब भगवान शिव ने गंगा की धारा को अपनी जटाओं में समेटकर जटाएं बांध लीं. इसका परिणाम यह हुआ कि गंगा को जटाओं से बाहर निकलने का पथ नहीं मिल सका।

अब महाराज भगीरथ को और भी अधिक चिंता हुई. उन्होंने एक बार फिर भगवान शिव की आराधना में घोर तप शुरू किया. तब कहीं भगवान शिव ने गंगा की धारा को मुक्त करने का वरदान दिया. इस प्रकार शिवजी की जटाओं से छूट कर गंगाजी हिमालय की घाटियों में कल-कल निनाद करके मैदान की ओर मुड़ी. इस प्रकार . गगा की पवित्र धारा के प्रवाह में सभी भगीरथ के सभी पूर्वजों की राख बह गयी और उन्हे श्राप से मुक्ति मिल गयी। मा गंगा के अवतरित होने सेे धरती फिर सेे हरी- भरी और उपजाऊ हो गयी और प्रजा भी सुखी हो गयी।

भागीरथ के महान प्रयासों की सभी देवताओं और उनके पूर्वजों ने प्रशंसा की, और उनके इस कार्य को आज भी भगीरथ प्रयास (सभी बाधाओं के बावजूद कुछ महान कार्य करना ) के रूप में जाना जाता है।

चींटी और कबूतर । हिंदी कहानी

चींटी और कबूतर की कहानी 

 गर्मी के दिन थे। एक चींटी  पानी की तलाश में थी। कुछ समय इधर- उधर घुमने के बाद, वह एक झरने के पास आयी।  झरने तक  पहुंचने के लिए, उसे घास की एक तेज पत्ती पर चढ़ना पड़ा। यह रास्ता बनाते समय, वह फिसल गई और पानी में गिर गई।

Image result for dove and hunter

image credit: google search

अगर  पास के पेड़ पर बैठा  कबूतर यह सब नहीं देखता, तो वह डूब सकती थी।  चींटी को परेशानी में  देखकर , कबूतर ने जल्दी ही एक पत्ता तोड़्कर इसे मुश्किल में फंसी  चींटी के पास पानी में गिरा दिया। चींटी पत्ते  की तरफ चली गई और तुरंत उस पर चढ़ गई। जल्द ही, पत्ता बहकर सूखी जमीन पर पहुंच गया , और चींटी बाहर अ गयी। आखिर में वह सुरक्षित थी।

 ठीक उसी  समय, वहां एक शिकारी अपने जाल को कबूतर पर फेंकने वाला था, वह उसे पकड़ना चाह्ता था।

चीटी ने अनुमान लगाया कि वह शिकारी  क्या करने वाला है , चींटी ने तभी  उसे एड़ी पर काट दिया। जैसे ही शिकारी को दर्द मह्सूस हुआ, उसके हाथ से जाल गिर गया। और तभी झट से कबूतर वहा से उड गया।कबूतर ने चींटी के जान बचा कर जो नेक काम किया था। आज उसी ने उसकी जान बचायी।

 एक अच्छा किया गया काम दूसरे  अच्छे काम को प्रेरित करता है।

Note : This story is inspired from this post 

पतंग की डोर : परिवार दिवस पर एक कहानी

पतंग की डोर /Patang ki dor । A Hindi Story on International Family Day

हर साल 15 मई को अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। 1993 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा यह दिवस घोषित किया गया था।  इस अवसर पर एक प्रेरणादायक कहानी आपके साथ शेयर कर  रही हू‌ं।

पतंग की डोर 

Image result for father and son kite flying cartoon image

image credit : google

एक बार एक गांव मेंं पतंग उड़ाने केे त्योहार  का आयोजन हुआ। गांव का एक आठ साल का बच्चा दीपू भी अपने पिता के साथ इस  त्योहार में गया। दीपू  रंगीन  पतंगों  से भरा आकाश देखकर बहुत खुश हो गया। उसने अपने पिता से उसे एक पतंग और एक मांझा ( धागे का रोल)  दिलाने  के लिए कहा ताकि वह भी  पतंग उड़ सके। दीपू के पिता दुकान में गए और उन्होनें  पतंग और धागे का एक रोल  खरीद्कर अपने बेटे  को दे दिया।

अब दीपू ने  पतंग उड़ाना शुरू कर दिया। जल्द ही, उसकी पतंग आकाश में ऊंचा उड़ने लगी । थोड़ी देर के बाद, उसने अपने पिता से कहा, “पिताजी, ऐसा लगता है कि धागा पतंग को उंचा उड़ने से रोक रहा है, अगर हम इसे तोड़ते हैं, तो  पतंग इससे भी और ज्यादा उंची उड़गी। क्या हम इसे तोड़ सकते हैं? “तो, पिता ने रोलर से धागा   काटकर अलग कर  दिया। पतंग थोड़ा ऊंचा जाना शुरू हो गयी ।  यह देखकर दीपू बहुत खुश हुआ।

लेकिन फिर, धीरे-धीरे पतंग ने नीचे आना शुरू कर दिया। और, जल्द ही  पतंग एक अज्ञात इमारत की छत पर गिर गयी । दीपू को यह देखकर आश्चर्य हुआ। उसने धागे को काटकर  पतंग को मुक्त कर दिया था ताकि वह ऊंची उड़ान भर सके, लेकिन इसके बजाय, यह गिर पड़ी। उसने अपने पिता से पूछा, “पिताजी, मैंने सोचा था कि धागे को काटने के बाद, पतंग खुलकर उंचा  उड़ सकती है । लेकिन यह क्यों गिर गयी ? “

पिता ने समझाया, “बेटा, जब हम जीवन की ऊंचाई पर रहते हैं, तब अक्सर सोचते हैं कि कुछ चीजें जिनके साथ हम बंधे हैं और वे हमें आगे बढ़ने से रोक रहे हैं। धागा पतंग को ऊंचा उड़ने से नहीं रोक रहा था, बल्कि  जब हवा धीमी  हो रही थी उस वक़्त धागा पतंग को  ऊंचा रहने में मदद कर रहा था, और जब हवा तेज  हो गयी तब तुमने धागे की मदद से ही पतंग को उचित दिशा में ऊपर जाने में मदद की। और जब हमने  धागे को काटकर छोड़ दिया , तो धागे के माध्यम से पतंग को जो सहारा मिल रहा था वह खत्म हो गया और पतंग टूट कर गिर गयी “। दीपू को बात समझ में आ गयी और उसे अपनी गलती का एह्सास हो गया।

कहानी की सीख :  कभी-कभी हम महसूस करते हैं कि यदि हम अपने परिवार, घर से बंधे नहीं हो तो  हम जल्दी से प्रगति कर सकते हैं और हमारे जीवन में नई ऊंचाइयों तक पहुंच सकते हैं  लेकिन, हम यह महसूस नही करते कि  हमारा  परिवार, हमारे प्रियजन ही हमें  जीवन के  कठिन समय से उबरने  में मदद करते हैं और हमें अपने जीवन में    आगे बढने  के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वे हमारे लिये रुकावट नही है, बल्कि  हमारा सहारा है।

 अर्चना त्रिपाठी

Arguments quotes in Hindi

तर्क और विवाद पर विचार/ Arguments quotes in Hindi

Image result for argument

image courtesy: google

Quote 1: It takes two to quarrel, but only one to end it.
In Hindi : झगडा करने कए लिये दो लोगों की जरुरत होती है, पर झगडा खत्म करने के लिये केवल एक की।

Quote 2: soft words win hard hearts.

In Hindi : नरम शब्द कठोर दिलों को जीत लेते है|

Quote 3: No great advance has ever been made in science, politics, or religion, without controversy.

In Hindi : विज्ञान, राजनीति या धर्म में कभी भी कोई महान प्रगति विवाद के बिना नहीं हुई है।

Quote 4: insults are the arguments employed by those who are in wrong.

In Hindi: अपमानित करना उन लोगों द्वारा सुनियोजित तर्क होते है जो कि गलत के पक्ष में होते है।

Quote 5: Silence is one of the hardest arguments to refute.

In Hindi: मौन रहना , खंडन करने के सबसे कठिन तर्कों में से एक है।

Quote 6: Behind every argument is someone’s ignorance

In Hindi : हर तर्क/विवाद के पीछे किसी की अज्ञानता होती है।

Quote 7: To argue with a man who has renounced the use of reason is like administering medicine to the dead.

In Hindi : किसी ऐसे व्यक्ति के साथ बहस करना, जिसने विवेक बुद्धि/तर्क बुद्धि का उपयोग करना छोड़ दिया है, मृत पर दवा का प्रयोग करने के समान है

Related post:

Dale Carnegie Inspiring Thoughts in Hindi

10 inspirational quotes in Hindi -महान व्यक्तियों के प्रेरणादायक विचार

Quote 8: anyone who conducts an argument by appealing to authority is not using his intelligence he is just using his memory.

In Hindi : कोई भी जो प्राधिकारी से अपील करके तर्क पेश करता है,वह अपनी बुद्धि का उपयोग नहीं कर रहा है, वह सिर्फ अपनी याददाश्त का उपयोग कर रहा है।
Quote 9: The best argument against democracy is a five-minute conversation with the average voter.
In Hindi: लोकतंत्र के विरुद्ध सबसे अच्छा तर्क है यह है कि- साधारण मतदाता से पांच मिनट की बातचीत।
Quote 10: He who establishes his argument by noise and command shows that his reason is weak.
In Hindi: वह जो शोर और आदेश से अपना तर्क स्थापित करता है, वह दिखाता है कि उसका तर्क और विचार कमजोर है।
Note: तर्क और विवाद पर विचार/ Arguments quotes in Hindi (English version) have been taken from different sources on internet. Despite taking utmost care there could be some mistakes in Hindi Translation of तर्क और विवाद पर विचार/ Arguments quotes in Hindi .

अर्चना त्रिपाठी

Dale Carnegie Inspiring Thoughts in Hindi

Dale Carnegie Quotes in Hindi

डेल कार्नेगी के अनमोल विचार

मैंने कुछ दिन पहले Dale Carnegie की किताब “How to win friends and influence people” का हिंदी अनुवाद ” लोक व्यवहार” पढा था। Dale Carnegie एक प्रसिद्दध motivational speaker थे। आज इस किताब की कुछ best inspiring quotes इस पोस्ट केे माध्यम से share कर रही हूं।

Quote 1: It isn’t what you have or who you are or where you are or what you are doing that makes you happy or unhappy. It is what you think about it.

In Hindi : वो बात जो आपको खुश या दुखी करती है ये नही है कि -आपके पास क्या है या आप कौन हैं या आप कहां हैं या आप क्या कर रहे हैं – वो ये है कि आपके इनके बारे मे कैसा सोचते है।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 2: Don’t be afraid of enemies who attack you. Be afraid of the friends who flatter you.
In Hindi :आप पर हमला करने वाले दुश्मनों से मत डरो। आपकी चापलूसी करने वाले दोस्तों से डरो।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 3: Any fool can criticize, complain, and condemn—and most fools do. But it takes character and self-control to be understanding and forgiving.

In Hindi : कोई भी मूर्ख आलोचना, शिकायत, और निंदा कर सकता है- और अधिकांश मूर्ख ऐसा ही करते हैं। लेकिन समझदार और क्षमाशील बनने के लिए चरित्र और आत्म-नियंत्रण की आवश्यकता होती है।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 4: When dealing with people, remember you are not dealing with creatures of logic, but with creatures bristling with prejudice and motivated by pride and vanity.

In Hindi : लोगों से व्यवहार/ करते समय ,यह याद रखें कि आप तर्क के प्राणियों के साथ व्यवहार नही कर रहे हैं, अपितु पूर्वाग्रह से तने हुए और गर्व और अभिमान से प्रेरित प्राणियों के साथ व्यवहार कर रहे हैं।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 5: Everybody in the world is seeking happiness—and there is one sure way to find it. That is by controlling your thoughts. Happiness doesn’t depend on outward conditions. It depends on inner conditions.”

In Hindi :दुनिया में हर कोई खुशी की तलाश में है- और इसे खोजने का एक निश्चित तरीका है। वह है – अपने विचारों को नियंत्रित करना। खुशी बाहरी स्थितियों पर निर्भर नहीं है। यह आंतरिक स्थितियों पर निर्भर करता है।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 6: Talk to someone about themselves and they’ll listen for hours.

In Hindi : किसी व्यक्ति से उसके बारे में बात करें और वे आपको घंटों तक सुनेंगे।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 7: Actions speak louder than words, and a smile says, ‘I like you. You make me happy. I am glad to see you.

In Hindi :कर्म शब्दों से अधिक तीव्रता से बोलते हैं, और एक मुस्कुराहट कहती है, ‘मैं तुम्हें पसंद करता हूं। तुम मुझे खुश करते हो। तुम्हें देख कर मैं प्रसन्न हूँ।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 8: A man convinced against his will, is of the same opinion still”

In Hindi : एक आदमी जिसे उसकी इच्छा के खिलाफ आश्वस्त किया गया है, अभी तक भी उसकी वही राय है।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 9: The difference between appreciation and flattery? That is simple. One is sincere and the other insincere. One comes from the heart out; the other from the teeth out. One is unselfish; the other selfish. One is universally admired; the other universally condemned

In Hindi : प्रशंसा और चापलूसी के बीच का अंतर क्या है ? यह आसान है। एक निष्ठापूर्ण है और दूसरा निष्ठाहीन है। एक दिल से बाहर आता है; दूसरा दांतों से। एक निःस्वार्थ है; दूसरा स्वार्थी । एक की सार्वभौमिक प्रशंसा की जाती है; और दुसरे की सार्वभौमिक निंदा।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 10: Names are the sweetest and most important sound in any language.”

In Hindi : नाम किसी भी भाषा में सबसे मधुर और सबसे अधिल महत्वपूर्ण ध्वनि है।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 11: To be interesting, be interested.

In Hindi: दिलचस्प इंसान बनने के लिये, दिलचस्पी लें (लोगों में)

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Quote 12: If You Want to Gather Honey, Don’t Kick Over the Beehive”

In Hindi : अगर आप शहद इकट्ठा करना चाहते हैं, तो मधुमक्खी के छ्त्ते पर लात मत मारो।

Dale Carnegie डेल कार्नेगी

Note: Despite taking utmost care there could be some mistakes in Hindi Translation of Dale Carnegie Quotes.

निवेदन: कृपया अपने comments के मध्यम से बताएं कि Dale Carnegie Quotes. का हिंदी अनुवाद आपको कैसा लगा.

सम्राट की चेतावनी: तेनालीरामा की चतुराई Tenali Rama story in Hindi

सम्राट की चेतावनी: तेनालीरामा की चतुराई

Tenali Rama story in Hindi

आप सब ने तेनालीरामा के बारे में तो अवश्य सुना होगा। वे 16वीं शताब्दी मे विजयनगर राज्य के सम्राट श्री कृष्णदेव राय के दरबार में अष्टदिग्गजों में से एक थे। उनकी कुशाग्र बुद्धि के बारे में अनेक कहनियां प्रचलित है। आज एक ऐसी ही कहानी इस प्रकार है:-

सम्राट की चेतावनी: तेनालीरामा की चतुराई

Tenali Rama story in Hindi

सम्राट कृष्णदेव राय के पास एक सुंदर हाथी था। उसका नाम धवलगिरि था| वह उसे बेहद प्यार करते थे। एक दिन धवलगिरि बीमार पड़ गया। सम्राट कृष्णदेव ने अपने कर्मचारियों को उसकी सावधानी से देखभाल करने का आदेश दिया और कहा कि जो व्यक्ति उन्हें धवलगिरि की मृत्यु की खबर देगा उसे फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा।

कुछ दिनों बाद सच में धवलगिरि हाथी की मृत्यु हो गई । अब कर्मचारी घबराए कि सम्राट को यह दुखद सूचना कैसे दी जाए?

हारकर वे सब तेनालीराम के पास गये। तेनालीराम ने उनकी हिम्मत बढ़ाई और कहा कि वह स्वयं सम्राट को इस दुखद खबर देंगे। दरबार में जाकर पहले तो तेनालीराम ने औपचारिक बातें कही, फिर उसने चिंतित स्वर में कहा, “महाराज आपका प्रिय धवलगिरि न कुछ खाता है, ना पीता है, न उठता है. ना बैठता है, वह कुछ भी नहीं करता, यहां तक कि सांस भी नहीं लेता है। इतना सुनते ही सम्राट ने घबराकर पूछा,” क्या धवलगिरि की मृत्यु हो गयी है? “

तेनालीराम ने कहा, “ महाराज, यह आपने क्या कह दिया? आप अपनी चेतावनी स्वयं ही भूल गए !” सम्राट कुछ समझ ना पाए। सहसा उन्हें अपना कहा याद आ गया और उस दुख में भी वह मुस्कुरा उठे” उन्होंने कहा,” तेनालीरामा तुमने अपनी चतुराई से एक निर्दोष व्यक्ति की जान बचा ली, अन्यथा दुख के आवेग में मै धवलगिरि की मृत्यु की खबर लाने वाले को फांसी पर चढ़ा देता।“

कैसा लगा तेनालीरामा की चतुराई का किस्सा- सम्राट की चेतावनी: तेनालीरामा की चतुराई

Tenali Rama story in Hindi